After living alone three years in cage this parrot give three eggs

तीन साल अकेले पिंजरे में गुजारने के बाद इस तोते ने दिए तीन अण्डे

 तीन साल अकेले पिंजरे में गुजारने के बाद इस तोते ने दिए तीन अण्डे
लखनऊ। इसे कुदरत का करिश्मा कहे या कुछ और जी हा! यह एक ऐसे तोते का चमत्कार है जिसे सुनकर आप अचंभित हो जायेंगे। राजधानी लखनऊ के चैक इलाके में रहने वाले एक परिवार में करीब तीन साल से पिंजरे में रह रहे तोते ने एक सप्ताह के अंदर तीन अंडे दिए हैं। इस तोते को देखने के लिए लोगों का दिनभर हुजूम लगा रहता है। जो भी इसके बारे में सुनता है, वह उसे देखने के लिए जरूर जाता है। तोता इलाके में चर्चा का विषय बनी हुआ है।
 [ad name=”HTML-1″]
राजधानी के चैक इलाके के सराय माली खां चैपटिया रोड में रहने वाले प्रेमचन्द्र रस्तोगी अपनी पत्नी सुशीला रस्तोगी, बेटे संजीव रस्तोगी, बहू बरखा रस्तोगी, पोते प्रजल रस्तोगी, एवं पोती एन्जिल रस्तोगी के साथ रहते हैं। वह सोने चांदी का कारोबार करते हैं। संजीव ने मंगलवार को आईपीएन को बताया कि तीन साल पहले एक एक मिट्ठू नाम का तोता पाला था।
जो पिंजरे में बंद रहता है और ज्यादातर कमरे के अंदर ही रख जाता है। तीन साल के दौरान सिर्फ अकेले रहने वाले तोते ने विगत 12 अप्रैल को पिंजरे के अंदर एक अंडा दिया। जिसे देख घरवाले अचंभित हो गए। यह बात उन्होंने पड़ोसियों को बताई तो उन्हें विश्वास नहीं हुआ। तब तक 16 अप्रैल को उसने दूसरा एवं 19 अप्रैल को तीसरा अंडा दिया। बिना साथी के ही तीन अंडे देकर तोते की इलाके में चर्चा जोरों पर है। वहीं, उसे देखने के लिए लोगों का दिनभर तांता लगा रहता है।
 [ad name=”HTML-1″]
बरखा देखते ही रह गयी भौचक्की
रात में सोते समय तोते के पिंजरे में कुछ नहीं था। सुबह सोकर उठे और पिंजरा देखा उसमे एक अंडा देखा। इसके बाद मिट्ठू ने दो अंडे और दिए। हमें विश्वास नहीं हो रहा कि यह सब कैसे हुआ। इसे चमत्कार या कुदरत का करिश्मा कहें। यह कहना था बरखा रस्तोगी का। वह तोते की कहानी दिनभर वहां आये लोगों को बताते नहीं थकती।[ad name=”HTML-1″]

Leave a Reply